हरियाणा

सहकारी आंदोलन ने देश के सामाजिक एवं आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया : मनोहर लाल

 हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि सहकारी आंदोलन ने देश के सामाजिक एवं आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। हरियाणा में लगभग 28 हजार सहकारी समितियां हैं, जो 50 लाख सदस्यों को सीधे तौर पर तथा लगभग प्रदेश की पूरी आबादी को किसी न किसी रूप में मदद कर रही हैं।

        श्री मनोहर लाल आज यमुनानगरमें आयोजित अंतर्राष्ट्रीय सहकारिता दिवस समारोह-2019 में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने की। हरियाणा विधानसभा के स्पीकर श्री कंवर पाल तथा केन्द्रीय जल शक्ति एवं सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्यमंत्री श्री रतन लाल कटारिया विशिष्ठ अतिथि के रूप में शामिल हुए, जबकि हरियाणा के सहकारिता राज्य मंत्री मनीष कुमार ग्रोवर कार्यक्रम के सह अध्यक्ष रहे। कार्यक्रम में उपस्थित महानुभावों ने पौधारोपण भी किया।

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर 19 मोबाइल बैकिंग वैनों को झण्डी दिखाकर रवाना किया जो प्रदेश में ग्रामीणों को उनके घर-द्वार पर ही बैकिंग से सम्बंधित सेवाएं प्रदान करेंगी। इसके साथ ही, उन्होंने वीटा दूध एवं दुग्ध उत्पादों की ऑन-लाइन बिक्री के लिए ई-कामर्स वेबसाइट का शुभारम्भ भी किया।

        ‘उम्दा कार्य के लिए सहकारिताएं’ विषय पर आयोजित अंतर्राष्ट्रीय सहकारिता दिवस समारोह के अवसर पर प्रदेशभर से आए सहकारी समितियों के सदस्यों, किसानों व श्रमिकों को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि लगभग 75 प्रतिशत वर्ग सहकारिता से जुड़ा हुआ है और सहकारी समितियां अपने सदस्यों द्वारा चलाई जाने वाली प्रजातांत्रिक संस्थाएं हैं। उन्होंने कहा कि हरियाणा राज्य सहकारी श्रम एवं निर्माण प्रसंघ प्रदेश में श्रमिकों के हितों की रक्षा करने, उनकी समितियां गठन कराने का कार्य करता है। मार्च 2019 तक प्रदेश में 8040 सहकारी श्रम एवं निर्माण समितियों का गठन हुआ है।

मुख्यमंत्री ने ‘एक के लिए सब तथा सब के लिए एक’ सहकारिता का मूलमंत्र बताते हुए कहा कि हरियाणा में दुग्ध सहकारी समितियां अच्छा कार्य कर रही हैं। प्रदेश में पशु पालकों को सामाजिक-आर्थिक सुरक्षा प्रदान करने के लिए प. दीनदयाल उपाध्याय पशु धन बीमा योजना शुरू की गई है। उन्होंने कहा कि सहकारी चीनी मिलों में एथेनॉल लगाने की औपचारिकताएं पूरी की जा रही हैं।

श्री मनोहर लाल ने इस मौके पर प्रदेशभर में सरहानीय कार्य करने के लिए दी कैथल को-आप्रेटिव शुगर मिल कैथल, दी करनाल को-आप्रेटिव मार्किटिंग एण्ड प्रोसेसिंग सोसाइटी लि. करनाल, दी ढांड दुग्ध उत्पादन सहकारी समिति हिसार, दी भिवानी सैंट्रल को-आप्रेटिव बैंक लि. भिवानी, दी माधा प्राइमरी एग्रीकल्चर को-आप्रेटिव सोसाइटी माधा, दी डीपीसीएआरडीबी फतेहाबाद, डी देव को-आप्रेटिव सोसाइटी लि. पलवल व अन्य सहकारी समितियों के प्रतिनिधियों को स्मृति चिन्ह  देकर सम्मानित किया। इस मौके पर उन्होंने समारोह में लगाई गई प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया जिसमें 23 स्टाल लगाए गए थे। इन स्टालों में हैफेड, आईटीआई यमुनानगर व को-आप्रेटिव सोसाइटी यमुनानगर को अव्वल स्थानों पर रहने के लिए सम्मानित किया।

        मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि जल सरंक्षण को बढ़ावा देने के लिए प्रदेश में विशेष कदम उठाए गए हैं और कई खण्डों में किसानों को धान की सीधी बिजाई व मक्का की बिजाई एवं फसल विविधिकरण के लिए जागरूक किया गया है।

        केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने अन्न उत्पादन के लिए हरियाणा के किसानों को बधाई देते हुए कहा कि उत्पादन के मामले में किसानों ने देश को आत्म निर्भर बना दिया है। प्रदेश ने सहकारिता के क्षेत्र में बहुत उन्नति की है फिर भी सहकारिता के क्षेत्र को और अधिक बढ़ावा देने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि भारत कृषि प्रधान देश है और यहां सहकारिता का क्षेत्र व्यापक है। उन्होंने कहा कि भारत में साढ़े छह लाख गांवों में से छह लाख गांव सहकारिता से प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े हुए हैं। उन्होंने कहा कि सरकार इस बात के लिए दृढ़ संकल्प है कि किसानों की आय बढ़े। इसी कड़ी में अक्तूबर माह में दिल्ली में अंतर्राष्ट्रीय सहकारी मेला आयोजित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि गुजरात में अमूल ने अपनी एक विशेष पहचान बनाई है, अत: सभी को सहकारिता से जुड़ना चाहिए।

        केन्द्रीय जल शक्ति, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्यमंत्री श्री रतन लाल कटारिया ने कहा कि केन्द्रीय वित्त मंत्री द्वारा पेश किए गए बजट में सहकारिता व्यवस्था को बदलने का संकल्प लिया गया है। उन्होंने कहा कि भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने ‘मन की बात’ में भावी पीढ़ी को जल सरंक्षण के प्रति जागरूक रहने की बात की है। उन्होंने कहा कि हमें जल सरंक्षण के लिए विशेष कदम उठाने होंगे।

        कार्यक्रम में हरियाणा विधान सभा के स्पीकर कंवर पाल तथा सहकारिता मंत्री मनीष कुमार ग्रोवर ने भी अपने विचार रखे।

        इस अवसर पर यमुनानगर के विधायक घनश्याम दास अरोड़ा, रादौर के विधायक श्याम सिंह राणा, मध्य प्रदेश के पूर्व सहकारिता मंत्री श्री विश्वास सारंग, सहकारिता विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव एसएन राय, मुख्यमंत्री के ओएसडी अमरेन्द्र सिंह, हरकोफैड के अध्यक्ष रघुनाथ कश्यप व चेयरमैन जीएल शर्मा समेत अनेक गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।  

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
tatkalnews.com
AAR ESS Media
newstatkal@gmail.com
tatkalnews181@gmail.com
Visitor's Counter : 68215241
Copyright © 2016 AAR ESS Media, All rights reserved.
Desktop Version