हरियाणा

कौशल विकास केन्द्र(Skill Development Centre)का उद्घाटन के. सैल्वराज आई.पी.एस. महानिदेशक कारागार हरियाणा व न्यायाधीश रवि कुमार सोंधी, जिला एवमं सत्र न्यायाधीश‌ गुरूग्राम के द्वारा दीप प्रज्जवलित करके किया

जिला कारागार गुरूग्राम में जगुआर फाउडेशन (Jaquar Foundation) एवंम जीवन जीने की कला (Art of Living) के सहयोग से प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के तहत कौशल विकास केन्द्र(Skill Development Centre)का उद्घाटन श्री के. सैल्वराज आई.पी.एस. महानिदेशक कारागार हरियाणा व न्यायाधीश श्री रवि कुमार सोंधी, जिला एवमं सत्र न्यायाधीश‌ गुरूग्राम के द्वारा दीप प्रज्जवलित करके किया। इस अवसर जगुआर सम्मूह के निदेषक श्री राजेश मेहरा ने बताया कि यह केन्द्र 1000 से अधिक वर्गफुट का स्थान रखने वाला बाकी केन्द्रो में से सबसे बडा केन्द्र है। इसमें एक साथ 30 कैदी बन्दियों को पलम्बर का प्रषिक्षण दिया जाएगा जो तीन महिने तक चलेगा और उसके बाद एक परीक्षा लेकर उत्तीर्ण होने वाले सभी बन्दियों को एक-एक प्रमाण पत्र दिया जाऐगा तथा जेल से रिहाई के समय औजारो की एक किट दी जाएगी। ताकि बन्दी जेल से रिहा होने के बाद स्वंय का कार्य आरम्भ करके ईज्जत के साथ पैसा कमा सके और अपने परिवार का पालन पौषण कर सके। जगुआर सम्मूह के निदेषक श्री राजेष मेहरा ने कहा की जो व्यक्ति हाथ से काम करता है वह विष्व का निमार्ण करता है इसलिए उसे विष्वकर्मा कहा जाता है।
इस अवसर पर जिला एवम सत्र न्यायाधीष श्री रवि कुमार सोंधी, ने सभी बन्दियो को सम्बोधित करते हुए कहा कि बन्दियों को जेल में अपने कौषल को निखारने का एक मौका मिला है। इस कौषल विकास केन्द्र के माध्यम से बन्दी पलम्बर का काम सिख कर अपने सारे बुरे कार्य छोड कर जेल से रिहा होने पर बाहर जा कर ईज्जत के साथ पैसे कमा सकते है और ईज्जत के साथ अपना जीवन व्यतित कर सकते हो। इस मौके पर एक समारोह का भी आयोजन किया गया जिसमें मुख्य अतिथि महानिदेषक कारागार श्री श्री के. सैल्वराज ने बन्दियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि जेल में आपके हित में चल रही कल्याणकारी योजनाओ में बढ चढ कर भाग ले और अनुषासन में रहते हुए अपने आप को एक अच्छे ईन्सान के रूप में स्थापित करें। और जेल से हाथ की दस्तकारी का हुनर सीखे व जेल से रिहा होने पर जेल से बाहर जाकर कार्य करके अपनी ईज्जत के साथ पैसे कमा कर अपना जीवन व्यतित करे। जेल में खाली रह कर अपना समय खराब न करें, बल्कि संगीत, पैन्टीग, सिलाई व पलम्बरिगं का कार्य मन लगा कर सिखे व समय का सदुपयोग करे। जिससे आप सभी मन के तनाव से दूर रहेगे।
जय किषन छिल्लर अधीक्षक जेल द्वारा मुख्य अतिथि श्री के. सैल्वराज महानिदेषक कारागार हरियाणा व जिला एवम सत्र न्यायाधीष श्री रवि कुमार सोंधी, श्री प्रदीप चैधरी, मुख्य न्यायिक मैजिस्ट्रेट गुरूग्राम, श्री नरेन्द्र सिंह, मुख्य न्यायिक मैजिस्ट्रेट एवमं सचिव, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण गुरूग्राम, जगुआर सम्मूह के निदेषक श्री राजेष मेहरा व जीने की कला के ट्रस्टी दीपक शर्मा तथा प्रधानमंत्री कौषल विकास निगम के प्रतिनिधि और उनके साथ आए सभी मेहमानों का पुष्प गुच्छ देकर स्वागत किया और हरियाणा की जेलो मे इस तरह का पहला कौषल विकास केन्द्र खोलने के लिए धन्यवाद किया। श्री जय किष्न छिल्लर अधीक्षक जेल ने सभी बन्दियों को सम्बोधित करते हुए कहां कि इस प्रकार के प्रोग्रामों में सभी बन्दियों को बढचढ कर भाग लेना चाहिए जिससे सभी बन्दियो को बुरे कार्यो से दूर रह कर अच्छा कार्य कर सके जिससे उन्हें मानसिक तनाव को भी कम हो सके तथा एक कुषल कारीगर बन जेल के बाहर जाकर मेहनत करके अपना गुजारा एक ईज्जत के साथ कर सके। इस कारागार पर स्थापित कौषल विकास केन्द्र के माध्यम से प्रति वर्ष लगभग 100 कुषल पलम्बरों को तैयार किया जाएगा। जगुआर फाउडेशन विष्व में 45 से अधिक देषों में पूर्ण बाथरूम और प्रकाष समाधान बांड के लिए प्रषिद्व संस्था है तथा उन्होने जिला जेल गुरूग्राम एवमं जीवन जीने की कला के सहयोग जेल हरियाणा की जेलों में से गुरूग्राम जेल में पहला और अति आधुनिक कौषल विकास केन्द्र खोला है जिसमें पलम्बरिक के कौषल में बन्दियों को प्रषिक्षण प्रदान किया जाएगा। इस अवसर पर जीवन जीने की कला‌(Art of Living) के पदाधिकारी, जगुआर फाउडेशन (Jaquar Foundation)के पदाधिकारी, श्री श्याम सुन्दर सचिव, जिला रैड क्रास सौसाइटी गुरूग्राम, उप अधीक्षक जेल मौ0 साजिद खान, उप अधीक्षक जेल श्री सत्यभान, उप अधीक्षक जेल श्री धर्मबीर सिंह, श्री संजय कुमार सहायक अधीक्षक व जेल के अन्य अधिकारी/ कर्मचारी भी मौजूद थे।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
tatkalnews.com
AAR ESS Media
newstatkal@gmail.com
tatkalnews181@gmail.com
Visitor's Counter : 68304094
Copyright © 2016 AAR ESS Media, All rights reserved.
Desktop Version