हरियाणा

अपने ही विभाग ने नहीं की सुनवाई तो खफा नगर पालिका प्रधान व पार्षदों ने दफ्तर पर जड़ा ताला, आधे घंटे बाद खोला

COURTESY DAINIK BHSAKAR MARCH 8
अपने ही विभाग ने नहीं की सुनवाई तो खफा नगर पालिका प्रधान व पार्षदों ने दफ्तर पर जड़ा ताला, आधे घंटे बाद खोला
प्रधान बोले-सरकार को कई पत्र लिखने के बाद भी सीट खाली छोड़ने वाले कर्मचारियों पर नहीं हो रही कार्रवाई

शहर के लोग अपनी समस्याएं दूर कराने को नगरपालिका के पास पहुंचते हैं, लेकिन नपा में इन दिनों अलग ही खेल चल रहा है। जिस पर लोगों की समस्याएं सुलझाने का जिम्मा है, उसके अपने प्रधान और पार्षदों की दिक्कतें दूर नहीं हो रही। जब खुद नपा प्रधान की सुनवाई नहीं हुई तो खफा प्रधान व पार्षदों ने मेन गेट पर ताला जड़ दिया। इसका पता चलते ही नपा में हड़कंप मच गया। करीब आधे घंटे के बाद पार्षदों ने ताला खोल दिया। गुरुवार सुबह नपा प्रधान अशोक सिंगला, उपप्रधान दीपक अत्री, पार्षद प्रवीण काला, गीता डाबर, महिंद्र सिंह, गगन मित्तल, हरमनदीप विर्क, पार्षद योगेश लक्की, मनमोहन चक्रपाणि, विक्की बिड़लान व पलविंद्र पम्मा नपा दफ्तर में पहुंचे। यहां बैठक के बाद निर्णय लिया कि ताला जड़ कर विरोध जताएंगे। प्रधान सिंगला ने आरोप लगाया कि नपा के लापरवाह कर्मचारियों पर कोई एक्शन नहीं हो रहा। नगरपालिका के कर्मचारी व अधिकारी जनता के कामों को लेकर सजग नहीं हैं। इसके चलते पिछले एक साल पहले हाउस की बैठक में पास किए विकास कार्य शुरू ही नहीं हो पाए। कुछ कामों के टेंडर हुए थे, लेकिन उसके बाद काम आगे नहीं बढ़ पाया। ऑन लाइन प्रक्रिया शुरू करके सरकार जितनी तेजी से जनता के काम निपटाना चाहती है, कर्मचारी उसे उतना ही पलीता लगाने पर उतारू हैं। जब कर्मचारी सीट पर ही काम नहीं करेंगे तो ऑनलाइन प्रक्रिया का लागू करने का भी कोई फायदा नहीं। जिन ठेकेदारों ने टेंडर लेकर के विकास कार्य करवाए हैं उनका भी करोड़ों रुपया लटका है। अब कुछ दिनों में चुनाव के कारण आचार सहिंता लागू होने वाली है। जिसके बाद सारे काम थम जाएंगे। प्रधान व पार्षदों का कहना है कि इसे लेकर वे लोग कई बार विभाग के मंत्री और डायरेक्टर को पत्र लिख चुके हैं। लापरवाही बरतने वालों के खिलाफ कार्रवाई का प्रस्ताव भेजा, लेकिन सरकार भी इस पर कोई ध्यान नहीं दे रही। लिहाजा मजबूरी में रोष जताने के लिए प्रधान व पार्षदों को अपने ही दफ्तर को ताला लगाना पड़ा।
मेन गेट पर ताला जड़कर िवरोध जताते प्रधान अशोक सिंगला व पार्षद।
तीन महीने पहले भी लिखा था पत्र : दीपक अत्री
उपप्रधान दीपक अत्री ने बताया कि तीन माह पहले निकाय मंत्री को पत्र लिखकर पार्षदों ने स्थिति से अवगत कराया था, लेकिन उस पर कार्रवाई नहीं हुई। उसके बाद पार्षदों ने दोबारा विभाग के डायरेक्टर को पत्र लिखकर काम न करने वाले अधिकारियों व जेई एमई सहित कई लोगों का यहां से तबादला करके उनके स्थान पर अनुभवी व्यक्तियों को तैनात करने की मांग की थी। उस पत्र की प्रति डीसी कुरुक्षेत्र कार्यालय में भेजी गई थी, लेकिन उस पर भी कार्रवाई नहीं हुई। शहर की सफाई व्यवस्था चरमराई हुई है

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
tatkalnews.com
AAR ESS Media
newstatkal@gmail.com
tatkalnews181@gmail.com
Visitor's Counter : 68204961
Copyright © 2016 AAR ESS Media, All rights reserved.
Desktop Version