हरियाणा

यह शादी का डांस नहीं जनाब सूरजकुंड शिल्प मेले की मस्ती है

यह शादी का डांस नहीं साहब, मेले में आए पर्यटकों की मस्ती का आलम है। अरावली की पहाडिय़ों में चल रहा 33वां अंतरराष्ट्रीय सूरजकुंड शिल्प मेला पूरे शबाब पर है और मेले का जादू इस कदर छाया है कि यहां आने वाले युवा व बच्चे थकावट के बावजूद थिरकने पर मजबूर हो जाते हैं। मेले में कोई बीन की धुन पर तो कोई ढोल की थाप में नृत्य कर रहा है। नाचते-गाते देसी-विदेशी पर्यटक सूरजकुंड मेले को और भी भव्य रूप दे रहे हैं। प्रदेश की परम्परागत कलाओं के रंगों व फिल्मी धुनों पर स्कूली छात्रों ने जमकर मस्ती करत हैं। फरीदाबाद जिले के तिलपात गांव के रहने वाले पालीनाथ बीन पार्टी व राजस्थानी ढोल ताशे के कलाकार रणधीर ने बताया कि मेले में पहुंच रहे पर्यटकों की दीवानगी देख कर उन्हें थकावट महसूस नहीं होती बल्कि वे खुद भी बच्चों के साथ डांस करने लगते हैं।
राजस्थान के रणधीर ने बताया कि पर्यटकों की मस्ती उनकी टीम में और भी जोश भर देती है। जिस कारण वे सारा दिन ढोल ताशे को बजाते-बजाते नहीं थकते।
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
tatkalnews.com
AAR ESS Media
newstatkal@gmail.com
tatkalnews181@gmail.com
Visitor's Counter : 68223314
Copyright © 2016 AAR ESS Media, All rights reserved.
Desktop Version