हरियाणा

सारे बच्चे हुए फेल तो स्कूल में जड़ा ताला-पलवल में दीघौट के सरकारी स्कूल के सामने धरने पर बैठे ग्रामीण

COURSTEY NBT MAY 29

पलवल में दीघौट के सरकारी स्कूल के सामने धरने पर बैठे ग्रामीण
सारे बच्चे हुए फेल तो स्कूल में जड़ा ताला

 

...तो के म्हारी गैल टीचर भी फेल होग्या!
22
51
बच्चों ने 10वीं की परीक्षा दी और केवल 9 पास हुए
स्टूडेंट्स ने हरियाणा बोर्ड की 12वीं की परीक्षा दी और सभी फेल हो गए
डीईओ बोलीं, लापरवाह शिक्षकों की भेजेंगी रिपोर्ट

डीईओ सुमन नैन को हंगामे की सूचना मिलीं तो वे भी स्कूल पहुंची और ग्राम पंचायत सदस्यों से बात की। डीईओ ने ग्राम पंचायत सदस्यों को विश्वास दिलाया की शिक्षा विभाग के नियमानुसार 10वीं के बच्चों को पढ़ाने वाले सभी अध्यापकों के खिलाफ कार्रवाई के लिए अधिकारियों को पत्र लिखा जाएगा। सहमति के बाद गांव वालों ने दोपहर करीब 3 बजे ताला खोल दिया। गवर्नमेंट सीनियर सेकंडरी स्कूल के प्रिंसिपल रणजीत सिंह ने बताया की गांव वालों और डीईओ के बीच हुई वार्ता के बाद ताला खोल दिया गया।
सुबह 7 बजे ही ताला लगाकर बैठ गए ग्रामीण

स्कूल के निराश करने वाले परीक्षा परिणाम से गुस्साए ग्रामीणों ने ग्राम पंचायत सदस्यों के साथ मिलकर तीनों स्कूलों पर ताला जड़ दिया। गांव वालों ने सुबह 7 बजे से पहले ताला लगा दिया और गेट पर ही दरी बिछाकर बैठ गए। सुबह 7 बजे के बाद टीचर आने शुरू हुए तो किसी को भी स्कूल में एंट्री नहीं करने दी। स्टूडेंट्स को भी गेट के बाहर ही रोक दिया गया। टीचर्स ने स्कूल का ताला खोलने की अपील की, लेकिन गांव वालों ने उनकी एक नहीं सुनी।
स्कूल के गेट पर ताला लगाकर बैठे ग्रामीण और ग्राम पंचायत सदस्य•एनबीटी न्यूज, पलवल

 

हरियाणा शिक्षा बोर्ड की 10वीं की परीक्षा में दिघौट के राजकीय सीनियर सेकंडरी स्कूल के सारे बच्चे फेल हो गए। 12वीं में इसी स्कूल के 22 में से केवल 9 बच्चे ही पास हुए हैं। रिजल्ट की जानकारी हुई तो स्कूल गेट पर ताला जड़कर ग्रामीण सोमवार को धरने पर बैठ गए। प्रिंसिपल, शिक्षक और स्टूडेंट स्कूल पहुंचे तो सभी को गेट पर ही रोक लिया। डीईओ ने जांच के बाद लापरवाही करने वालों को हटाने का आश्वासन दिया। करीब 9 घंटे के बाद ग्रामीणों ने स्कूल का ताला खोला और हंगामा शांत हुआ।

22 हजार की आबादी में बस एक स्कूल: दीघौट गांव की आबादी करीब 22 हजार है। गांव में एक ही जगह प्राइमरी, हाई और सीनियर सेकंडरी स्कूल चल रहा है। प्राइमरी स्कूल में 296, हाईस्कूल में 211 और सीनियर सेकंडरी स्कूल में 273 स्टूडेंट हैं। प्राइमरी और हाईस्कूल में अध्यापकों की सभी सीटें भरी हैं, जबकि सीनियर सेकंडरी में शिक्षकों के पद खाली हैं। 10वीं की परीक्षा में 51 और 12वीं की परीक्षा में 22 स्टूडेंट्स ने परीक्षा दी थी। बोर्ड ने पिछले दिनों रिजल्ट जारी किया तो 10वीं में सभी 51 स्टूडेंट फेल हो गए, जबकि 12वीं कक्षा में 22 में से 9 छात्र ही पास हो सके।

कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
tatkalnews.com
AAR ESS Media
newstatkal@gmail.com
tatkalnews181@gmail.com
Visitor's Counter : 68215254
Copyright © 2016 AAR ESS Media, All rights reserved.
Desktop Version